hello friends! dash- thoughts is all about your feelings.. you found here love poems, romentic poems or sayries, sad poems, motivating poems or sayries and more exiting poems and sayries that you gonna love it..

Friday, September 28, 2018

September 28, 2018

best poem of love IN HINDI--love at fiest site part 2... the love side/ IN HINDI


भाग-२ 

बस पहली बार मै ही,
वो मेरी हो गयी थी!
मैं उसक हो गया था!

मैं तो परेशान था ,
कि ये क्या हो गया है,
तेरी एक झलक को देखकर,
मेरा दिल खो गया है !

सच्ची सच्ची एक बात बताऊँ,
तेरी उन झुकी हुई नज़रों से !
कसम से प्यार सा  गया  है,
जबसे तुझे देखा है ना!
तबसे ये दिल तेरा हो गया है!

तुझे देखने से पहले,
ऐसा कभी कुछ न हुआ था,
तेरा यूँ दीदार करके!
मेरे दिल का  चैन खो गया है !

आज  कल पता नहीं क्यों,
 कुछ बेचैन सा रहता हूँ !
सच सच एक बात बताऊँ ,
तुझे मिलने को परेशान रहता हूँ!!

कभी कभी लगता  है,
ये क्या गजब हो गया  है!
     अब तो मेरी तकदीर में आजा!
मेरे हांथों की लकीरों का ,
इशारा भी तेरी तरफ हो गया है!
मैं  तेरा हो गया  हूँ,
 मेरा दिल भी तेरा ही गया है !!

      (द्वारा :: जॉर्ज क्रिस्टन )





Tuesday, September 25, 2018

September 25, 2018

NEVER GIVE UP--BEST MOTIVATIONAL POEM IN HINDI--MAI HAAR NHI MANOOGA../ IN HINDI




मैं हार नहीं मानूंगा!!


आज कल बस यही रहता है मेरे दिमाग में ,
मंजिल पानी अपनी अलग अंदाज़ मै !
तभी ये  बार -बारअपने आप से कहूंगा,,
बार-बार अपनी किस्मत से लडूंगा,,
मैं  हार नहीं मानूंगा!   
  बस मैं हार नहीं मानूंगा!

क्या हुआ अगर मेरा,
वक्त मेरे साथ नहीं!
क्या हुआ अगर मेरे,
अपने मेरे साथ नहीं !!
बस बार -बार मैं यही ठानूँगा,
मैं  हार नहीं मानूंगा!   
  बस मैं हार नहीं मानूंगा!

मैंने अपने कांटे खुद से चुने है,
मैंने अपने रास्ते खुद से चुने है,,
 तो फिर मैं क्यों किसी और कुछ कहूंगा!
मैं अपना पहाड़ अकेले ही काटूंगा,
मैं  हार नहीं मानूंगा!   
  बस मैं हार नहीं मानूंगा!
 (द्वारा :: जॉर्ज क्रिस्टन )

!!!!!!!!!!  

Saturday, September 22, 2018

September 22, 2018

Poem of Love/ IN HINDI-- love at first site...love side/ IN HINDI



वो बस मेरी है|

कहा था  अपने आप से,

देखा था मैंने  उसे जब से:

अलग थी वो सबसे ,

 अलग था मैं सबसे:

वो खोयी सी सहमायी सी,

थोड़ी सी सरमायी सी:

हल्की सी घबरायी सी !

मैं थोड़ा सा बेताब हुआ,

नज़रों ने उसकी घाव किया:

फिर प्यार  का मैंने हिसाब किया!

बरसों सा लागा एक -एक पल !

मैंने जो ना था कभी जिया !

नज़रें उसकी झुकी हुई !

 पास मैं उसके चला गया ,

फिर एक बात का चला !

थी धड़कन उसकी बढ़ी हुई,

थी धड़कन मेरी बढ़ी हुई !

पहली बार में ही ,

मैं उसका  हो गया था,

वो मेरी हो गयी थी ,

बस मेरी हो गयी थी!!

हां वो बस मेरी है 
 (द्वारा :: जॉर्ज क्रिस्टन )

to be continued.......    

Thursday, September 20, 2018

September 20, 2018

sad Lover---heart broken poem./ IN HINDI


Part--(2)

जब तक तू पास था,
हर पल कुछ ख़ास था! 
यूँ ना  जाता तू मुझे छोड़के ,
कम से कम बताया तो होता,
कि  मुझसे नाराज़  था!!

                            तूने एक लव्स  शिकायत ना की,
                               तुमने अपने लवों ना खोलकर, 
                          तुमने अपने लवों ना खोलकर,
                         तुमने जो दर्द दिया वो  बेनाम था!!
                          कम से कम बताया तो होता,
                              कि  मुझसे नाराज़  था!!

हाँ मैं मानता हूँ कि ,
मैं  थोड़ा सा लापरवाह हूँ !
तुम अपने अधरों  सिए बैठी रहीं 
बिना कुछ कहे सहती रही !
और मैं इस बात से अनजान था ,,
कम से कम बताया तो होता,
कि  मुझसे नाराज़  था!!
 (द्वारा :: जॉर्ज क्रिस्टन )

!!!!!!!!!!!!


Tuesday, September 18, 2018

September 18, 2018

THE PAIN OF A LOVER/ IN HINDI -- HEART BROKEN POEM/ IN HINDI



!!!!!!!!

एक दिन चाँद को देखकर ,
 उसकी याद दिल मै उतर गयी!
उसकी सारी नादानियाँ ,
 आँखों के  सामने  गुजर गयी !
 तू तो  चाँद की चांदनी  तरह,
शीतल हुआ करती थी ना ,
फिर क्यों मेरी आँखों  नम को कर गयी??
 जिस दिन से दिया तूने वो तन्हाई का गम,
तब से मैं जी ना पाया हूँ,
मैंने तो तुझसे कभी मुँह ना मोड़ा था,
तो फिर क्यों तू मुझसे मुकर गयी!!
   फिर क्यों मेरी आँखों नम को कर गयी??
शुरुआत मे तो सिर्फ तुझसे प्यार था, 
 फिर धीरे-धीरे हम और पास आ गए!
जब तू गयी मुझे छोड़कर ,,
तब तक तेरी आदत सी थी हो गयी,
फिर क्यों मेरी आँखों  नम को कर गयी??
     तोडा था जब दिल मेरा,
क्या तुझे थोड़ी सी भी तख़लीफ़ ना हुई थी!
तेरे जाने की तकलीफ इतनी ज्यादा थी ,
कि मेरे दिल टुकड़े- टुकड़े कर गयी 
कि मेरे दिल टुकड़े- टुकड़े कर गयी 
क्यों मेरी आँखों  नम को कर गयी??

!!!!!!!!

 (द्वारा :: जॉर्ज क्रिस्टन )




Thursday, September 13, 2018

September 13, 2018

THE POEM OF LOVE IN HINDI-- YOU ARE MINE( PART--2)your heart will melt../ IN HINDI


तू बस मेरी है!!!! भाग -२ 

तू ही मेरी ज़न्नत,
तू ही मेरी जीनत,
और किसी की परवाह नहीं मुझे !

तुझे अपना माना है दिल से ,
तुझे अपना दिल , दिल से दिया है,
मेरी तो रज़ा बस  ये  है,
तेरी नज़रे बार बार  देखें मुझे !!

कम से कम तेरे सपनो में  आऊँ,
कभी कभी तू मुझे सोचा करे ,
बस यही  चाहत है मेरी ,,
कि तू कभी कभी याद करले मुझे !!

तू बस मेरी है, मेरी ही रहे,
मैं बस तेरा हूँ तेरा ही रहूँ ,
 मैं तुझे अपना  और तू अपना कहे  मुझे !!

तुझे देख कर आँखों को सुकूँ,
दिल को चैन आता है,
तू जलती  धूप मै  भी,
ठंडी  बरसात सी लगे मुझे!!
  
YOU ARE MINE
 (द्वारा :: जॉर्ज क्रिस्टन )



Sunday, September 09, 2018

September 09, 2018

THE POEM OF LOVE IN HINDI-- You Are Mine IN HINDI




सपनो की अहमियत मालूम है मुझे ,
तुझे सोचने की आदत है मुझे !
कभी- कभी मेरे सपनों मे भी आया है करो,
तुझे देखने की ख्वाहिश है मुझे!!

    मेरी ख्वाहिशों  को यूँ  नज़रअंदाज़ ना कर ,     
तुझे देखे बिना चैन नहीं आएगा मुझे !!           
  मेरी गोलियों को यूँ  रुसवा न कर ,,               
 मेरी गोलियों को यूँ  रुसवा न कर ,,              
  मेरी गलियों मै तेरे आने का ,                  
  इंतज़ार है मुझे !!                    
तू क्या तेरा दिल  भी जनता है 
तू क्या तेरा दिल भी जानता है !
 कि तुझसे बेइंतहा प्यार है, मुझे!!

    ये रात का वो नशा है ,                              
  जो अभी तक गया नहीं !                             
  बस तेरी  आँखों से पीने का इंतज़ार है मुझे !!          

मुझे कर ना तन्हा ना मज़बूरी का नाम दे !

तू तो ये बात जानती है न ,
तुझे देखे बिना नींद नहीं आती मुझे!!

  मैं कुछ भी नहीं मांगता तुझसे ,                 
  मेरी तो बस  इतनी दुआ है!                    
  तू मेरे साथ रहे बस यही काफी है मुझे !!            

मेरे दिल में तो तू धड़कती ही है .
मेरे दिल में तो तू धड़कती ही है .
तुझे अपनी सांसो में बसाना है मुझे !!

   तू ही मेरा मंदिर ,                             
  तू ही मेरी मस्ज़िद,,                          
    और कहाँ जाना है. मुझे!!                 

you are mine  









   

Wednesday, September 05, 2018

September 05, 2018

the poem of love IN HINDI.





आज कल जो ये तुम सितम ढाने लगी हो,

नज़रें मिलाके जो ये कहर ढाने लगी हो!

लगता है, जान लेके ही मानोगी मेरी,

ये तुम रोज़-रोज़ सपनो मे जो आने लगी हो!!

ये जो तुम रोज़ सपनो मे आती हो,

रोज़-रोज़ आके मुझे तड़पाती हो!

आज कल मै तो सोता  ही रहना  चाहता हूँ!

 अब क्या चैन से  सोने भी नहीं देना चाहती  हो !

जो सपनों आके यूँ चुप-चाप जाने लगी हो!!

ये तुम  रोज़-रोज़ सपनो मे जो आने लगी हो!!

अब तो ये सपने सच होने दुआ करता हूँ,

रातों मे क्या दिन मे भी तेरे सपने देखा करता हूँ!

किसी दिन तो तू मिलेगी मुझे,,

अब पल-पल तुम याद आने लगी हो!

ये  तुम  रोज़-रोज़ सपनो मे जो आने लगी हो!!

!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! 

Sunday, September 02, 2018

September 02, 2018

motivational poem IN HINDI part -2


जलेगा ज़माना (भाग --२) 

वो चाहते कि मैं  कुछ ना करूँ ,

डर-डर के रहूँ पल- पल मैं  मरु !

तब मैंने देखा बाज़ को,

जो चीर रहा आसमान को !

फिर देखा अपने आप को,

जो सह रहा हर पाप को!

तुम भी सब कुछ कर सकते हो ,,

ये बात पड़ी मेरे कानों मे !

एक दिन हमसे जलेगा ज़माना ,

जब देखेगा हमे आसमानो मै!

 मैंने जो कहा वो कर दिखाया !

तब जाके आज है वो दिन आया!

जब पहचाना जाऊँगा मैं इंसानो मे !!

एक दिन हमसे जलेगा ज़माना ,

जब देखेगा हमे आसमानो मै! 


 अगर कविता पसंद  आयी है तो कमेंट बॉक्स बता सकते हो। 
जल्दी ही इस कविता का तीसरा भाग भी आएगा 

धन्यवाद